उत्तराखंड वृद्धा पेंशन योजना 2022 | Uttarakhand vridha pension yojana Online Apply, Benefit

उत्तराखंड वृद्धा पेंशन योजना 2022 | Uttarakhand vridha pension yojana |

Uttarakhand vridha pension yojana: उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के बुजुर्गो की वित्तीय समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, उत्तराखंड वृद्धा पेंशन योजना को शुरू किया है। ज्यादातर मामलों में देखा गया है कि हमारे समाज में ज्यादातर बुजुर्गों को अपने बच्चों पर निर्भर रहना पड़ता है, कुछ परिवारों में यह भी देखा गया है कि बच्चों द्वारा बुजुर्गों का सही से ध्यान नहीं रखा जाता है, उन्हें वृद्धा आश्रम में छोड़ने तक की नौबत आ जाती है।

इन्ही सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, उत्तराखंड सरकार द्वारा अन्य राज्यों की ही तरह वृद्धावस्था पेंशन योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों के लिए प्रति माह कुछ राशि पेंशन के रूप में उनके बैंक खाते में जमा की जाती है। सरकार द्वारा दी जाने वाली यह राशि बुजुर्गों के जीवन यापन के लिए प्रयाप्त है। इससे उन्हें किसी के सामने हाथ नहीं फ़ैलाने पड़ते है।

वृद्धा पेंशन योजना के उदेश्य

राज्य के बुजुर्गों को एक न्यूनतम मासिक सहायता राशि उन्हें प्रधान करना, जिससे उन्हें किसी के ऊपर निर्भर नहीं रहना पढ़ें। 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को एक निश्चित राशि प्रति माह उनके बैंक खाते में प्राप्त हो जाती है।

Uttarakhand vridha pension yojana

कोई भी उम्मीदवार जो पेंशन के लिए आवेदन देता है , वह ऑफलाइन आवेदन दे सकता है। इसके अंतर्गत पेंशनधारक को 1200 रु दिए जाते जो की उनके बैंक खातो में ट्रान्सफर की जाती है। इस पेंशन के पैसा से काफी लाभान्वृत होते है अपनी निजी ज़रूरतों के लिए आत्मनिर्भर होते है।

यूके वृद्धा पेंशन के लिए पात्रता

  • वृद्धा पेंशन के लिए लाभार्थी की न्यूनतम उम्र 60 वर्ष होनी चाहिए।
  • लाभार्थी की कुल मासिक आय 48000 से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • आपके पास सरकार द्वारा मान्य पहचान पत्र होना आवश्यक है।
  • लाभार्थी किसी भी सरकारी विभाग का रिटायर कर्मचारी नहीं होना चाहिए।
  • वृद्धा पेंशन राशि के लिए उत्तराखंड के गरीबी रेखा से नीचे व ऊपर जीवन यापन करने वाले लोग लोग पात्र है। इसके लिए कुछ पात्रता मानदंड बनाये गए है।

वृद्धा पेंशन उत्तराखंड के लिए आवश्यक दस्तावेज (डॉक्यूमेंट)

  • आधार कार्ड
  • बीपीएल प्रमाण पत्र
  • आय का प्रमाण पत्र
  • जन्म  तिथि प्रमाण पत्र
  • आयु सम्बंधित प्रमाण पत्र
  • बैंक खाते की फोटो और संख्या
  • बैंक खाते की पास बुक के पहले पेज की फोटो
  • PAN कार्ड या voter id card
  • मोबाइल नंबर।

आवेदन कैसे करे 

उत्तराखंड वृद्धा पेंशन यौजना का पूरा लाभ उठाने के लिए व्यक्ति आवेदन online और offline दे सकते है | परन्तु कुछ पिछड़े इलाको में यह आवेदन अभी भी आवेदन offline ही होता है | सबसे पहले वृद्ध पेंशन योजना को offline कैसे किया जाता है आइये समझे |

उत्तराखंड वृद्ध पेंशन (यूवीपीआर) एक सामाजिक उद्यम है, जिसका उद्देश्य उत्तराखंड में ग्रामीण और अर्ध-शहरी पेंशनभोगियों को वित्तीय स्थिरता प्रदान करके उनका समर्थन करना है।

उत्तराखंड वृद्ध पेंशन एक अनूठी सेवानिवृत्ति पेंशन योजना है जिसे वर्ष 2007 में स्थापित किया गया था। यह पेंशन योजना सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति लाभ प्रदान करती है। उत्तराखंड वृद्ध पेंशन योजना का प्राथमिक उद्देश्य सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों और उनके आश्रितों को लाभ प्रदान करना है। यह योजना भारत सरकार और उत्तराखंड सरकार के बीच एक संयुक्त प्रयास है।

इसके अलावा इस योजना से एकत्रित पेंशन राशि का एक हिस्सा उत्तराखंड के गरीब पेंशनभोगियों में बांट दिया जाता है। यह पेंशन योजना उत्तराखंड सरकार द्वारा उत्तराखंड के गरीब बुजुर्ग पेंशनभोगियों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए लागू की गई है। अभी तक यह योजना राज्य के आठ जिलों में शुरू की गई है। यह योजना उत्तराखंड में रहने वाले सभी सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों को कवर करती है।

Uttarakhand Old Age Pension Yojana 2022

यूओएपीवाई के पहले चरण के पूरा होने के बाद, 1.6 करोड़ लाभार्थियों को प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के माध्यम से छह महीने से पांच साल तक पेंशन मिली। दूसरा चरण पूरा होने पर अतिरिक्त 5 लाख लोगों को डीबीटी का लाभ मिलेगा। दिसंबर 2022 तक पूरा होने वाला तीसरा चरण, राज्य में वृद्धावस्था पेंशन प्राप्त करने वाले सभी 2.7 करोड़ लोगों को लाभ प्रदान करेगा।

वृद्धवस्था पेंशन योजना के लाभ

इसके अलावा, निवेश पोर्टफोलियो का प्रबंधन करने वाले पेंशन फंड आमतौर पर लंबी अवधि के निवेश में निवेश किए जाते हैं जो फंड को अन्य निवेशों की तुलना में अधिक रिटर्न अर्जित करने का अधिक मौका देते हैं। यह पेंशन फंड को अपने परिसंपत्ति मूल्य को बढ़ाने और बढ़ाने में मदद करता है।

उत्तराखंड वृद्धा पेंशन योजना के लिए पात्रता

देश में सबसे बड़ी और सबसे पुरानी सरकार द्वारा संचालित पेंशन योजनाओं में से एक, यूपीपी योजना उन व्यक्तियों के लिए खुली है जो कम से कम तीन वर्षों से सरकार के लिए काम कर रहे हैं। यह योजना सेवा के प्रत्येक वर्ष के लिए 15,000 रुपये (एक महिला के लिए) और 12,500 रुपये (एक पुरुष के लिए) की मासिक पेंशन राशि प्रदान करती है, जो अधिकतम 6 लाख रुपये की पेंशन के अधीन है। योग्य व्यक्ति पेंशन योजना के लिए या तो राज्य के माध्यम से या कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।

अंत में, यह बेहतर होगा कि सरकार करों को बढ़ाने के बजाय सेवानिवृत्त लोगों के सभी खर्चों का ध्यान रखे। यह उन लोगों के लिए बेहतर होगा जो अपने परिवारों के किराए और बिलों का भुगतान करने के लिए पैसे की कमी से जूझ रहे हैं।
ये भी पढ़ें – अटल पेंशन योजना

Leave a Comment

x
error: Content is protected !!